THE HIMALAYAN TALK: INDIAN GOVERNMENT FOOD SECURITY PROGRAM RISKIER

http://youtu.be/NrcmNEjaN8c The government of India has announced food security program ahead of elections in 2014. We discussed the issue with Palash Biswas in Kolkata today. http://youtu.be/NrcmNEjaN8c Ahead of Elections, India's Cabinet Approves Food Security Program ______________________________________________________ By JIM YARDLEY http://india.blogs.nytimes.com/2013/07/04/indias-cabinet-passes-food-security-law/

THE HIMALAYAN TALK: PALASH BISWAS CRITICAL OF BAMCEF LEADERSHIP

[Palash Biswas, one of the BAMCEF leaders and editors for Indian Express spoke to us from Kolkata today and criticized BAMCEF leadership in New Delhi, which according to him, is messing up with Nepalese indigenous peoples also. He also flayed MP Jay Narayan Prasad Nishad, who recently offered a Puja in his New Delhi home for Narendra Modi's victory in 2014.]

THE HIMALAYAN DISASTER: TRANSNATIONAL DISASTER MANAGEMENT MECHANISM A MUST

We talked with Palash Biswas, an editor for Indian Express in Kolkata today also. He urged that there must a transnational disaster management mechanism to avert such scale disaster in the Himalayas. http://youtu.be/7IzWUpRECJM

THE HIMALAYAN TALK: PALASH BISWAS LASHES OUT KATHMANDU INT'L 'MULVASI' CONFERENCE

अहिले भर्खर कोलकता भारतमा हामीले पलाश विश्वाससंग काठमाडौँमा आज भै रहेको अन्तर्राष्ट्रिय मूलवासी सम्मेलनको बारेमा कुराकानी गर्यौ । उहाले भन्नु भयो सो सम्मेलन 'नेपालको आदिवासी जनजातिहरुको आन्दोलनलाई कम्जोर बनाउने षडयन्त्र हो।' http://youtu.be/j8GXlmSBbbk

THE HIMALAYAN TALK: PALASH BISWAS LASHES OUT KATHMANDU INT'L 'MULVASI' CONFERENCE

अहिले भर्खर कोलकता भारतमा हामीले पलाश विश्वाससंग काठमाडौँमा आज भै रहेको अन्तर्राष्ट्रिय मूलवासी सम्मेलनको बारेमा कुराकानी गर्यौ । उहाले भन्नु भयो सो सम्मेलन 'नेपालको आदिवासी जनजातिहरुको आन्दोलनलाई कम्जोर बनाउने षडयन्त्र हो।' http://youtu.be/j8GXlmSBbbk

THE HIMALAYAN TALK: PALASH BISWAS BLASTS INDIANS THAT CLAIM BUDDHA WAS BORN IN INDIA

THE HIMALAYAN VOICE: PALASH BISWAS DISCUSSES RAM MANDIR

Published on 10 Apr 2013 Palash Biswas spoke to us from Kolkota and shared his views on Visho Hindu Parashid's programme from tomorrow ( April 11, 2013) to build Ram Mandir in disputed Ayodhya. http://www.youtube.com/watch?v=77cZuBunAGk

THE HIMALAYAN TALK: PALSH BISWAS FLAYS SOUTH ASIAN GOVERNM

Palash Biswas, lashed out those 1% people in the government in New Delhi for failure of delivery and creating hosts of problems everywhere in South Asia. http://youtu.be/lD2_V7CB2Is

Palash Biswas on BAMCEF UNIFICATION!

THE HIMALAYAN TALK: PALASH BISWAS ON NEPALI SENTIMENT, GORKHALAND, KUMAON AND GARHWAL ETC.and BAMCEF UNIFICATION! Published on Mar 19, 2013 The Himalayan Voice Cambridge, Massachusetts United States of America

BAMCEF UNIFICATION CONFERENCE 7

Published on 10 Mar 2013 ALL INDIA BAMCEF UNIFICATION CONFERENCE HELD AT Dr.B. R. AMBEDKAR BHAVAN,DADAR,MUMBAI ON 2ND AND 3RD MARCH 2013. Mr.PALASH BISWAS (JOURNALIST -KOLKATA) DELIVERING HER SPEECH. http://www.youtube.com/watch?v=oLL-n6MrcoM http://youtu.be/oLL-n6MrcoM

Imminent Massive earthquake in the Himalayas

THE HIMALAYAN TALK: PALASH BISWAS CRITICIZES GOVT FOR WORLD`S BIGGEST BLACK OUT

THE HIMALAYAN TALK: PALASH BISWAS CRITICIZES GOVT FOR WORLD`S BIGGEST BLACK OUT

THE HIMALAYAN TALK: PALASH BISWAS TALKS AGAINST CASTEIST HEGEMONY IN SOUTH ASIA

Palash Biswas on Citizenship Amendment Act

Mr. PALASH BISWAS DELIVERING SPEECH AT BAMCEF PROGRAM AT NAGPUR ON 17 & 18 SEPTEMBER 2003 Sub:- CITIZENSHIP AMENDMENT ACT 2003 http://youtu.be/zGDfsLzxTXo

Welcome

Website counter
website hit counter
website hit counters

Tweet Please

Palash Biswas On Unique Identity No1.mpg

Saturday, October 24, 2015

https://youtu.be/yjOnYEWSz3Q Oscar Winner Lyricist and Film Director Gulzar says,returning awards is the only way to protest! Indian Cinema joins the writers, poets, artists,sociologists and scientists to sustain humanity and nature,inherent pluralism and diversity. Hope Big B, Rajanikant, Mohanlal, Adoor,Shabana and Javed Akhtar,Benegal,Nasir and Om Puri and Girish Karnad and others from Indian Cinema would join us sooner or later as Indian Cinema always dealt with the aesthetics of social realism beyond Satyajit Ray Ritwik Ghatak Mrinal Sen films.Raj Kapoor always represented the dreams and aspiration of real life while Mehboob made Mother India.

https://youtu.be/yjOnYEWSz3Q

Oscar Winner Lyricist and Film Director Gulzar says,returning awards is the only way to protest!


Indian Cinema joins the writers, poets, artists,sociologists and scientists to sustain humanity and nature,inherent pluralism and diversity.


Hope Big B, Rajanikant, Mohanlal, Adoor,Shabana and Javed Akhtar,Benegal,Nasir and Om Puri and Girish Karnad and others from Indian Cinema would join us sooner or later as Indian Cinema always dealt with the aesthetics of social realism beyond Satyajit Ray Ritwik Ghatak Mrinal Sen films.Raj Kapoor always represented the dreams and aspiration of real life while Mehboob made Mother India.

Palash Biswas

    Gulzar
    Poet
    Sampooran Singh Kalra, known popularly by his pen name Gulzar, is an Indian poet, lyricist and film director. Born in Jhelum District in British India, his family moved to India after partition. Wikipedia
    BornAugust 18, 1934 (age 81), Dina, Pakistan
    Full nameSampooran Singh Kalra

gulzar on Twitter

    Never thought a person's religion would be asked before his name: Lyricist Gulzar iexp.in/TWU200131

    Gulzar backs writers' protest, says 'never witnessed such intolerance'www.ndtv.com/india-news/g…

We had New Wave Cinema in seventies and even now Bollywood films represent social realism with scientific special effects,folk rooted songs and stories and day to day life in different ways.


Indian Cinema showcased universal fraternity and always spoke the language of love and peace,truth and nonviolence.This Indian Nation is still united and we owe much and more to our artists working in Cinema.


Returning award only way to protest, Gulzar says!


Noted lyricist Gulzar has come out in support of authors returning their Sahitya Akademi awards in protest of the growing religious intolerance in the country, saying this is the only way a writer can register protest.


Many writers have returned their Akademi awards to protest the killing of Kannada writer MM Kalburgi and other growing instances of attacks on intellectuals.


Gulzar, 81, said in Patna while the killing was not Akademi's fault, the authors wanted the institution to recognize and protest against the incident.


"The murder that has hurt us all is somewhere the fault of the system/government ... Returning the award was an act of protest. Writers don't have any other way to register their protest. We have never witnessed this kind of religious intolerance. At least, we were fearless in expressing ourselves," Gulzar said.


Expressing concern over the growing instances of communal intolerance, he rubbished claims that the writers decision to return the award was politically motivated.


Rather I am ashamed of progressive,secular Bengal Intelligentsia which has not echoed the voice of dissent hithertoo except one young lady Mandakranta Sen.


The 1793 Permanent Settlement Act enatcted by British Raj in the best interest of East India Company created this Bengali intelligentsia so much so hyped for its so called renaissance,has always been in support of the foreign rule,foreign capital and foreign interest.


The indigenous,aborigine and folk roots in every sphere of life,in every medium and genre including art,literature and culture were uprooted with this turnaround and Bengali intelligentsia dubbed the first revolt of indigenous rulers from all over India as Chuar Vidroh,the revolt by the criminals just after the War of Plassy.


Mirjafar had been the Nawab replacing Siraj,but Umi Chand and Jagat Seth Ruled Bengal and the new lot of landlords known as Zamindar,the new caste Hindu middle class uprooted the common people in every sphere of life.Europe opted for industrial production system and we were enslaved in a feudal production system and we never reached the stage of industrialization and Independent India ruled by Manusmriti hegemony killed the production system and Indian econonomy,Agrarian India,Indian retail business and small industries and Industries opting for free flow of foreign capital and foreign interests.This governance of fascism is all about economic reforms to kill Humanity and Nature bidding for Sale India.


This criminal act is being glorified with blind religious nationalism which is fascism,racist apartheid and Ethnic cleansing! This is the Hindutva Agenda of genocide culture!This is the aesthetics and linguistics of hatred.


I have spoken on this turnaround in my latest videom how the aesthetics became so urban and how Bengali intelligentsia had not supported the BHASHA Biplab in nineties,first struggle of freedom in 1957,Indigo Revolt,Santhal and Bheel and Munda insurrections.Not enough, the dubbed the original uprising right in 1750 to 1760 as Chuar Rebellion as a criminal offence and the original uprising of Indian peasantry led by Hindu,Muslim and Tribal leaders as sanyasi Vidroh.


The demise of Zamindari was the inspiration of Swaraj or Ramrajya as it is well described in the novels of Tara Sahnkar Bandopathyaya with inherent hatred for the untouchables and tribal people.


While it was Tagore only who represented pluralism and diversity,humanity and nature,the Bhatrat Tirth in his creative activism which protested  the racist apartheid blatant and brute,the untouchability and the discrimination.


Because Tagore called himself Mantraheen,Bratya,Jatihara what means out caste and he wrote letters from Russia to describe the plight of toiling masses in India excluded from history,every sphere of life,society and economy!We never dared to discuss the aesthetics of social realism in Tagore`s life and works and his commitment to India and Indian people.


Rather the Hatred Brigade defaces him with the charge of Sedition as Netaji had been titled with betrayal while he is the only Man who resisted Fascist and reactionary forces In India.


Thus,Gandhi had been Killed and the killing continues till this day.


Dr Ambedkar has been included as an incarnation of God Vishnu as Gautam Buddha has been to ensure the mind control mandatory for exclusion and ethnic cleansing.


We stand rock solid.Apart from the RED and Blue majority masses in India,the offspring of Zamindari and indiscriminate urbanization killing the indigenous production system and Indian Economy,the ONE Percent ruling class has captured all resources and assets as the ninety percent masses are deprived of right to knowledge,right to arms,right to worship and right to property and the women are treated as SEX  Slaves and the children of these masses are treated as Bonded.


Thanks VK Singh,the Minister in the Governance of Fascism  to speak the truth as the ruling hegemony, the children of antinational neoliberal fascist MAJHABI SIYASAT does treat the masses as dogs.We do live like loyal dogs enslaved and we die like dogs!


The religious polarization is all about the ethnic cleansing of this ninety nine percent by the ONE percent rulers and we dare not to raise our voice of dissent.


We are imprisoned in caste system and religious identities and are subjected to infinite displacement,infinite persecution and infinite repression in  a military state of Salwa Judum and AFSPA ruled by the marketing agents of thousands and thousands East India Company.


They have nothing to do with the values,ideals,ethics and morals of religion.But they are misusing religion to kill the Majority in a Rape Tsunami.


हमीं लाल हैं।हमीं फिर नील हैं।
बाकी हिंदुत्व  महागठबंधन का फासिज्म है।
अगर हम प्रभुवर्ग के गुलाम वफादार कुत्ते नहीं हैं तो अब भौंकने की बारी है।कयामत का मंजर बदलने की बारी है।कायनात की रहमतें बरकतें नियामतें बहाल करने का वक्त है।



JAGO INDIA!Kejri refuses to release MCD Funds as VK Singh Exposed the APATHY against dogged Masses!
पलाश विश्वास


17 SEPT 2015 Nagarikatyer Nadi niye Mananiya griha mantri Sri Rajnath SINGH O Paribahan mantri Shri Nitin Gadkarir samne baktabya rakhchen Nikhil Bharat bangali Udbastu Samitir Sabhapati Dr.Subodh Biswas,Sange achen sri prasen raptan,dr ajit mallick,adv ambika ray,tapas ray,p gharami o nilima. amader dabi mene notification korechhaen . amra chai 2003 nagrikatyo ainer sangsodhan. se janyo agami 22 nov delhi avijan


धन्यवाद वीके सिंह,मंत्री महाशय,यह सच खोलने के लिए कि हम आखिरकार कुत्ते हैं और हमें कुत्तों की मौत मार दिया जाये तो सत्ता को कोई ऐतराज नहीं है।हम यह समझा नहीं पा रहे थे।
इस वीडियो में हमने ग्राम बांग्ला के कवि जसीमुद्दीन की कविता के विश्लेषण बांग्लादेशी आलोचक अबू हेना मुस्तफा कमाल की जुबानी पेश की है।इसमें बांग्ला कविता से ग्राम बांग्ला के बहिस्कार और साहित्य संस्कृति के नगरकेंद्रित बन जाने की कथा है।



1793 में स्थाई भूमि बंदोबस्त कानून के तहत जो जमींदार वर्ग पैदा हुआ और1835 में भाषा विप्लव के तहत जो हिंदू मध्यवर्ग पैदा हुआ,उसके अवसान के गर्भ में पैदा हुआ हिंदुत्व का महागठबंधन और उन्हीं के स्वराज आंदोलन में शामिल होने से इंकार कर दिया महात्मा ज्योतिबा फूले और बंगाल में अस्पृश्यता मोचन के चंडाल आंदोलन के नेता गुरु चांद ठाकुर ने क्योंकि उन्हें मालूम ता कि मनुस्मृति शासन में आखिरकार हम कुत्ते बनकर जियेंगे और मरेंगे भी कुत्तों की तरह।



हमने फिर सामाजिक यथार्थ के सौंदर्यसास्त्र की चर्चा की है और नवारुण भट्टाचार्य के उपन्यास कांगाल मालसाठ के छठें अध्याय के एक अंश का पाठ किया है,जो अछूतों और सर्वहारा वर्ग की मोर्चाबंदी के बारे में हैं।यह वीडियो आप जरुर देखेंःWhy I do quote Nabarun Bhattacharya?




जागो भारत तीर्थ।सच कहा है वीके सिंह ने।गुस्सा न करें और सोचें कि कैसे हम इतिहास,भूगोल,विरासत से बेदखल प्रभु के गुण गाते हुए दाल रोटी से भी बेदखल हैं और कुत्तों की मौत मारे जा जा रहे हैं।हमारी स्त्रियां बलात्कार की शिकार हैं और हमारे बच्चे बंधुआ मजदूर हैं।हर जरुरत सेवा और इंसानियत से भी बेदखल।यह जागरण का वक्त है।



इस फासिज्म के मुकाबले इंसानियत के भूगोल में गौतम बुद्ध के पंचशील के पुनरुत्थानकी जरुरत है।हमीं लाल हैं।हमीं फिर नील हैं।बाकी हिंदुत्व का महागठबंधन का फासिज्म है।अगर हम प्रभुवर्ग के गुलाम वफादार कुत्ते नहीं हैं तो अब भौंकने की बारी है।कयामत का मंजर बदलने की बारी है।कायनात की रहमतें बरकतें नियामतें बहाल करने का वक्त है।



कुत्तों की मौत नहीं चाहिए तो इंसान बनकर दिखाइये।इस वोट बैंक में तब्दील बहुजन समाज को अब पहचान,अस्मिता,जाति ,धर्म ,नस्ल के तमाम दायरे तोड़कर एकी फीसद सत्तावर्ग के खिलाप निनानब्वे फीसद के जागरण का यही सहीसमय है।इस मनुस्मृति शासन के खिलाफ रीढ़ सीधी करके खड़ा होने का वक्त है।तभी राजनीति,राजनय और अर्थव्यवस्था पटरी है।



दलितों के सारे राम अब हनुमान हैं और खामोश हैं।
बाबासाहेब के नाम दुकाने जो चला रहे हैं,वे सारे लोग खामोश हैं।
हमारे सांसद,मंत्री,विधायक वगैरह वगैरह खामोश हैं और हम कुत्तों की जिंदगी जीते हुए कुत्तों की मौत मर रहे हैं।



दिल्ली में जब सफाई कर्मियों की सुनवाई नहीं है।तो समझ लीजिये कि यह संसद और यह केंद्र सरकार ,राज्य सरकारें,सांसद विधायक किसके लिए हैं।समझ लीजिये,फिर कश्मीर,मणिपुर और पूर्वोत्तर,मध्यभारत में लोकतंत्र का किस्सा ,कानून के राज का माहौल कैसे नरसंहार ,सलवा जुड़ुम और आफस्पा है



दिल्ली में शरणार्थियों की रैसली होगी नवंबर में और देश के कोने कोने से लोग आयेंगे।असुरक्षा बोध की वजह से मुसलमानों की तरह सत्ता वर्ग के संरक्षण के बिना वे जी नहीं सकते और वे मोबाइल वोट बैंक हैं।दिल्ली में भाजपा और आरएसएस के नेता मंच पर होंगे।हम वहां हो ही नहीं सकते ।लेकिन हम अपने लोगों की हर लड़ाई में शामिल हैं और रहेंगे।
What a baleful religion.


"... Attackers said his writings were anti-Hindu as he talked about the caste system ..."


Now Dalit youth burnt to death in Yamunanagar - Press Trust of India, Yamunanagar  October 23, 2015   http://www.business-standard.com/article/pti-stories/now-dalit-youth-burnt-to-death-in-yamunanagar-115102300650_1.html

Close on the heels of two Dalit children being burnt alive in Faridabad, a 21-year-old Dalit youth was allegedly burnt to death by a former village head and his family members here over some old rivalry, police said today. The incident took place in Daulatpur village of the district on Tuesday. An old rivalry is suspected to be the reason behind it, police said.


Sonepat victim's family refuses to cremate boy's body after CM Khattar claims it was suicide - Jagriti Chandra, CNN-IBN, Oct 23, 2015http://www.ibnlive.com/news/india/sonepat-victims-family-refuses-to-cremate-boys-body-after-cm-khattar-claims-it-was-suicide-1155386.html

The family of the Sonepat victim on Friday refused to cremate the 15-year-old Dalit boy's body after Chief Minister Manohar Lal Khattar claimed it was a suicide. Two police officers have even been booked for murder in the case of the death of the boy who was charged with theft of a pigeon. Khattar has ruled out any caste conflict in the death of the boy in Gohana town in Sonepat district. The Chief Minister has claimed that it was a case of suicide.


In The Dead of the Night, Hatred Burns Asad Ashraf, Tehelka, Issue 44, Volume 12, 31. 10. 2015 http://www.tehelka.com/2015/10/in-the-dead-of-the-night-hatred-burns/

Two Dalit children were killed in Faridabad district when their house was set on fire. A close at the tragedy and its aftermath.  


Faridabad case threatens to go the Khairlanji way - Subodh Ghildiyal, TNN | Oct 23, 2015, 04.51 AM IST http://timesofindia.indiatimes.com/india/Faridabad-case-threatens-to-go-the-Khairlanji-way/articleshow/49499262.cms

NEW DELHI: Even before the dust settles, the gruesome burning of dalit infants in Sunped village is being dubbed a case of personal enmity of two families and not a caste crime. Faridabad has an echo of the horrific Khairlanji massacre in Maharashtra (2006) in which courts ruled it was a grotesque crime but not dictated by victims' caste identity - not a crime under Prevention of Atrocities Act (POA). The moot question is where does a crime against a dalit stop being a "dalit atrocity" and become a general offence?


Young Dalit writer targeted in Davanagere Mohit M. Rao, The Hindu, Bengaluru, October 23, 2015 http://www.thehindu.com/news/national/karnataka/young-dalit-writer-targeted-in-davanagere/article7793036.ece?homepage=true

Attackers said his writings were anti-Hindu as he talked about the caste system A young Dalit writer was attacked by a group of men for his writings against the caste system perceived to be "anti-Hindu", at Davanagere in Central Karnataka early on Thursday.


Caste – India's curse - Mari Marcel Thekaekara, New Internationalist (Blog), October 22, 2015 http://newint.org/blog/2015/10/22/indias-curse/

Another day, another Dalit death. We must hang our heads in shame It's been a nasty, brutish week. On the heels of 2 little girls being raped, India awoke to another horror story: just outside Delhi, 2 Dalit children, aged 9 months and 2.5 years, were cold-bloodedly burnt to death in a ghastly tale of revenge and caste hatred.


Dalits attacked in Dehradun temple - Piyush Shrivastava, Mail Today, Lucknow, October 23, 2015 http://indiatoday.intoday.in/story/dalits-attacked-in-dehradun-temple/1/505418.html

The cops accepted the complaint only when a large number of Dalits, led by Jabbar Singh, a local Dalit leader sat on dharna at the police station.  


Temple Fest Turns Violent in Madurai, Dalit Vehicles Burnt by Caste Hindus By Pon Vasanth Arunachalam Published: 23rd October 2015http://www.newindianexpress.com/states/tamil_nadu/Temple-Fest-Turns-Violent-in-Madurai-Dalit-Vehicles-Burnt-by-Caste-Hindus/2015/10/23/article3092733.ece

MADURAI:Tension prevailed in Elumalai and Athankaraipatti villages after at least four vehicles belonging to Dalits from the latter village were torched by caste Hindus and few others were injured in a clash that broke out on Wednesday evening at a temple festival. The villages, located around 60 km west of Madurai, were celebrating the Muthalamman temple festival.


Dalit cousins assaulted by supporters of Jat candidate, 1 critical Pankul Sharma, TNN | Oct 23, 2015, 07.28 AM IST http://timesofindia.indiatimes.com/city/meerut/Dalit-cousins-assaulted-by-supporters-of-Jat-candidate-1-critical/articleshow/49499822.cms

MEERUT: Supporters of a Jat candidate for village head allegedly assaulted two Dalit cousins who refused to support the candidate late on Wednesday night. The victims, one of who is in critical condition, are in hospital while an FIR has been filed against four assailants. 


Haryana Dalit attacks: 7-fold jump in 3 govts - Manoj C G, Indian Express, New Delhi, October 22, 2015 http://indianexpress.com/article/india/india-news-india/haryana-dalit-attacks-7-fold-jump-in-3-govts/

The major cases of violence include lynching of five Dalits in Dulina village in Jhajjar district in 2002, burning down of Dalit houses in Gohana in 2005 and burning alive of a physically challenged girl and her septuagenarian father in Mirchpur in 2010.

Data available with the National Crime Records Bureau (NCRB) show a seven-fold increase over 15 years in the number of incidents of crime against Scheduled Castes in Haryana.

आज तक - ‎5 घंटे पहले‎
देश में दलितों पर बढ़ते हमलों के खिलाफ रिपब्लिकन पार्टी ऑफ इंडिया (आरपीआई) ने कड़ी प्रतिक्रिया दी है. पार्टी ने मांग की है कि दलितों को आत्मरक्षा के लिए हथियार दिए जाएं. आरपीआई के अध्यक्ष रामदास अठावले ने नागपुर में कहा कि अगर पुलिस और सरकार दलितों पर हमले नहीं रोक सकतीं तो इन्हें आत्मरक्षा के लिए दलितों को हथियार का लाइसेंस देना चाहिए. उन्होंने कहा कि 'पहले भी दलितों पर हमले हो रहे थे और अब भी ये जारी हैं. इसलिए दलितों के पास अपनी आत्मरक्षा करने के अलावा कोई और विकल्प नहीं है.' अठावले और आरपीआई के कार्यकारी अध्यक्ष उत्तम खोबरागडे ने हरियाणा के फरीदाबाद .



Opportunity lost!Kejriwal refuses to allot funds to MCD, asks BJP to quit civic corporations!Sanitary workers on strike in Delhi might not have ears whatsoever for hearing grievances,their plight during this festive session and Killings continue.Suicides continue.


मेरे लेखको! किसका इंतज़ार है और कब तक?



Silent Protest March of Writers to Sahitya Academy, Delhi. 
कलमकारों-कलाकारों का ख़ामोश जुलूस
------------------------------------------
ख़ामोशी की भी जुबां होती है
ज़ुल्मी उससे भी ख़ौफ़ खाता है
हमारी आज़ादी की हिफ़ाज़त
हम ख़ामोशी से भी करना जानते हैं
और उतनी ही अच्छी तरह हम जानते हैं
तुम्हारे कानों के परदे फाड़ देने वाली एकजुट आवाज़ में
इंक़लाब के नारे लगाना और आज़ादी के तराने गाना।


हमीं लाल हैं।हमीं फिर नील हैं।
बाकी हिंदुत्व  महागठबंधन 

का 

फासिज्म है।

मेरे लेखको! किसका इंतज़ार है और कब तक?

Posted by Reyaz-ul-haque on 10/24/2015 04:25:00 PM

दलितों-मुसलमानों और लेखकों पर फासीवादी हमलों और हत्याओं के विरोध में लेखकों द्वारा पुरस्कार लौटाए जाने और अपना सख्त विरोध दर्ज कराने के संदर्भ में कैच के सीनियर असिस्टेंट एडीटर, कवि, गायक और चित्रकार पाणिनि आनंद का लेख. अनुवाद: अभिषेक श्रीवास्‍तव
 

इसमें कोई संदेह नहीं है कि भारत के लेखकों और कवियों ने साहित्‍य अकादमी से मिले पुरस्‍कार (और एक मामले में पद्मश्री) लौटा कर इतिहास बनाया है।

यह इसलिए और ज्‍यादा अहम है क्‍योंकि पुरस्‍कार लौटाने वाले लेखक किसी एक पंथ या विचारधारा के वाहक नहीं हैं, वे किसी एक भाषा में नहीं लिखते और किसी जाति अथवा धर्म विशेष से नहीं आते। इनका खानपान भी एक जैसा नहीं है। कोई सांभरप्रेमी है, कोई गोबरपट्टी का वासी है तो कोई द्रविड़ है।

ये सभी अलग-अलग पृष्‍ठभूमि से आते हैं। इनकी संवेदनाएं भिन्‍न हैं और इनकी आर्थिक पृष्‍ठभूमि भी भिन्‍न है। बावजूद इसके, ये सभी एक सूत्र से परस्‍पर बंधे हुए हैं। यह सूत्र वो संदेश है जो ये लेखक सामूहिक रूप से संप्रेषित करना चाहते हैं, ''मोदीजी, हम आपसे अहमत हैं, हम आपकी नाक के नीचे आपकी विचारधारा वाले लोगों द्वारा अभिव्‍यक्ति की आज़ादी पर किए जा रहे हमलों से आहत हैं।''

कैसे सुलगी चिन्गारी

इस ऐतिहासिक अध्‍याय की शुरुआत कन्‍नड़ के तर्कवादी लेखक एम.एम. कलबुर्गी की हत्‍या से हुई थी।  

इस घटना के सिलसिले में हिंदी के प्रतिष्ठित लेखक उदय प्रकाश के साथ पत्रकार और प्रगतिशील कवि अभिषेक श्रीवास्‍तव की बातचीत हो रही थी। कलबुर्गी और उससे पहले नरेंद्र दाभोलकर व गोविंद पानसारे की सिलसिलेवार हत्‍या पर दोनों एक-दूसरे से अपनी चिंताएं साझा कर रहे थे। नफ़रत और गुंडागर्दी की इन घटनाओं के खिलाफ़ दोनों एक भीषण प्रतिरोध खड़ा करने पर विचार कर रहे थे।

उदय प्रकाश इस बात से गहरे आहत थे कि साहित्‍य अकादमी ने कलबुर्गी की हत्‍या पर शोक में एक शब्‍द तक नहीं कहा। उनके लिए एक शोक सभा तक नहीं रखी गई। प्रकाश कहते हैं, ''आखिर अकादमी किसी ऐसे शख्‍स को पूरी तरह कैसे अलग-थलग छोड़ सकती है जिसे उसने कभी अपने सबसे प्रतिष्ठित पुरस्‍कार से नवाज़ा था? यह तो बेहद दर्दनाक और हताशाजनक है।''

फिर उन्‍होंने विरोध का आगाज़ करते हुए पुरस्‍कार लौटाने का फैसला लिया और अगले ही दिन इसकी घोषणा भी कर दी। इस घोषणा के बाद दिए अपने पहले साक्षात्‍कार में उदय ने कैच को (''नो वन हु स्‍पीक्‍स अप इज़ सेफ टुडे'', 6 सितंबर 2015) इसके कारणों के बारे में बताया था और यह भी कहा था कि दूसरे लेखकों को भी यही तरीका अपनाना चाहिए।

विरोध का विरोध

अब तक कई अन्‍य लेखक और कवि अपने पुरस्‍कार लौटा चुके हैं। बीते 20 अक्‍टूबर को दिल्‍ली के प्रेस क्‍लब ऑफ इंडिया में आयोजित लेखकों व कवियों की एक प्रतिरोध सभा ने अभिव्‍यक्ति की आज़ादी पर हमले की कठोर निंदा की।

फिर 23 अक्‍टूबर को कई प्रतिष्ठित लेखकों, कवियों, पत्रकारों और फिल्‍मकारों की अगुवाई में एक मौन जुलूस साहित्‍य अकादमी तक निकाला गया और उसे एक ज्ञापन सौंपा गया।

इनका स्‍वागत करने के लिए वहां पहले से ही मुट्ठी भर दक्षिणपंथी लेखक, प्रकाशक और अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के कार्यकर्ता जमा थे जो ''पुरस्‍कार वापसी तथा राजनीतिक एजेंडा वाले कुछ लेखकों द्वारा अकादमी के अपमान'' का विरोध कर रहे थे।

साहित्‍य अकादमी के परिसर के भीतर जिस वक्‍त ये दोनों प्रदर्शन जारी थे, मौजूदा हालात पर चर्चा करने के लिए अकादमी की एक उच्‍चस्‍तरीय बैठक भी चल रही थी।

बैठक के बाद अकादमी ने एक संकल्‍प पारित किया जिसमें कहा गया है: ''जिन लेखकों ने पुरस्‍कार लौटाए हैं या खुद को अकादमी से असम्‍बद्ध कर लिया है, हम उनसे उनके निर्णय पर पुनर्विचार करने का अनुरोध करते हैं।''

और सत्‍ता हिल गई

जिस देश में क्षेत्रीय भाषाओं के लेखक और कवि इन पुरस्‍कारों से मिली राशि के सहारे थोड़े दिन भी गुज़र नहीं कर पाते, वहां ''ब्‍याज समेत पैसे लौटाओ'' जैसी प्रतिक्रियाओं का आना बेहद शर्मनाक हैं।

राष्‍ट्रीय स्‍वयंसेवक संघ और उसकी अनुषंगी संस्‍थाओं के सदस्‍यों और नेताओं की ओर से जिस किस्‍म के भड़काने वाले बयान इस मसले पर आए हैं, उसने यह साबित कर दिया है कि लेखक सरकार का ध्‍यान इस ओर खींचने के प्रयास में असरदार रहे हैं।

और हां, जेटलीजी, जब आप कहते हैं कि यह प्रतिरोध नकली है, तो समझिए कि आप गलत लीक पर हैं। लेखक दरअसल इससे कम और कर भी क्‍या सकता है। सत्‍ता प्रतिष्‍ठान के संरक्षण में जिस किस्‍म की बर्बरताएं की जा रही हैं, हर रोज़ जिस तरह एक न एक घटना को अंजाम दिया जा रहा है और देश का माहौल बिगाड़ा जा रहा है, यह एक अदद विरोध के लिए पर्याप्‍त कारण मुहैया कराता है।

अब आगे क्‍या?

लेखकों व कवियों के सामने फिलहाल जो सबसे अहम सवाल है, वो है कि अब आगे क्‍या?

यह लड़ाई सभी के लिए बराबर सम्‍मान बरतने वाले और बहुलता, विविधता व लोकतंत्र के मूल्‍यों में आस्‍था रखने वाले इस देश के नागरिकों तथा कट्टरपंथी गुंडों के गिरोह व उन्‍हें संरक्षण देने वाले सत्‍ता प्रतिष्‍ठान के बीच है।

इस प्रदर्शन ने स्‍पष्‍ट तौर पर दिखा दिया है कि लेखक बिरादरी इनसे कतई उन्‍नीस नहीं है, लेकिन अभी लेखकों के लिए ज्‍यादा अहम यह है कि वे व्‍यापक जनता के बीच अपनी आवाज़ को कैसे बुलंद करें। ऐसा महज पुरस्‍कार लौटाने से नहीं होने वाला है। यह तो फेसबुक पर 'लाइक' करने जैसी एक हरकत है जिससे कुछ ठोस हासिल नहीं होता।

एकाध छिटपुट उदाहरणों को छोड़ दें, तो बीते कुछ दशकों के दौरान साहित्‍य में कोई भी मज़बूत राजनीतिक आंदोलन देखने में नहीं आया है। कवि और लेखकों को सड़कों पर उतरे हुए और जनता का नेतृत्‍व किए हुए बरसों हो गए।

मुझे याद नहीं पड़ता कि पिछली बार कब इस देश के लेखकों ने किसानों की खुदकशी, दलितों के उत्‍पीड़न, सांप्रदायिक हिंसा और लोकतांत्रिक मूल्‍यों व नागरिक स्‍वतंत्रता पर हमलों के खिलाफ कोई आंदोलन किया था। वे बेशक ऐसे कई विरोध प्रदर्शनों का हिस्‍सा रहे हैं, लेकिन नेतृत्‍वकारी भूमिका उनके हाथों में कभी नहीं रही। न ही पिछले कुछ वर्षों में कोई ऐसा महान साहित्‍य ही रचा गया है जिसने किसी सामाजिक सरोकार को मदद की हो।

पिछलग्‍गू न बनें, नेतृत्‍व करें

एक लेखक आखिर है कौन? वह शख्‍स, जो समाज के बेहतर और बदतर तत्‍वों की शिनाख्‍त करता है और उसे स्‍वर देता है।

एक कवि होने का मतलब क्‍या है? वह शख्‍स, जो ऐसे अहसास, भावनाओं और अभिव्‍यक्तियों को इस तरह ज़ाहिर कर सके कि जिसकी अनुगूंज वृहत्‍तर मानवता में हो।

मेरे प्रिय लेखक, आप ही हमारी आवाज़ हैं, हमारी कलम भी, हमारा काग़ज़ और हमारी अभिव्‍यक्ति भी। वक्‍त आ गया है कि आप आगे बढ़कर चीज़ों को अपने हाथ में लें।

अब आपको जनता के बीच निकलना होगा और उसे संबोधित करना ही होगा, फिर चाहे वह कहीं भी हो- स्‍कूलों और विश्‍वविद्यालयों में, सार्वजनिक स्‍थलों पर, बाज़ार के बीच, नुक्‍कड़ की चाय की दुकान पर, राजनीतिक हलकों में, समाज के विभिन्‍न तबकों के बीच और अलग-अलग सांस्‍कृतिक कोनों में।

और बेशक उन मोर्चों पर भी जहां जनता अपने अधिकारों के लिए लड़ रही है- दिल्‍ली की झुग्गियों से लेकर कुडनकुलम तक और जैतापुर से लेकर उन सुदूर गांवों तक, जहां ज़मीन की मुसलसल लूट जारी है।

आपको उन ग्रामीण इलाकों में जाना होगा जहां बहुराष्‍ट्रीय कंपनियां संसाधनों को लूट रही हैं: उन राजधानियों व महानगरों में जाइए, जहां कॉरपोरेट ताकतों ने कानूनों और नीतियों को अपना बंधक बना रखा है और करोड़ों लोगों की आजीविका से खिलवाड़ कर रही हैं; कश्‍मीर और उत्‍तर-पूर्व को मत भूलिएगा जहां जम्‍हूरियत संगीन की नोक पर है। इस देश के लोगों को आपकी ज़रूरत है।

सबसे कमज़ोर कड़ी

इन लोगों के संघर्षों को महज़ अपनी कहानियों और कविताओं में जगह देने से बात नहीं बनने वाली, न ही आपका पुरस्‍कार लौटाना जनता की अभिव्‍यक्ति की आज़ादी को बहाल कर पाएगा। अगर आप ऐसा वाकई चाहते हैं, तो आपको इसे जीवन-मरण का सवाल बनाना पड़ेगा। आपको नवजागरण का स्‍वर बनना पड़ेगा।

ऐसा करना इसलिए भी ज़रूरी है क्‍योंकि सरकार अब इस सिलसिले की सबसे कमज़ोर कडि़यों को निशाना बनाने की कोशिश में जुट गई है। उर्दू के शायर मुनव्‍वर राणा, जिन्‍होंने टीवी पर एक बहस के दौरान नाटकीय ढंग से अपना साहित्‍य अकादमी पुरस्‍कार लौटा दिया था, कह रहे हैं कि उन्‍हें प्रधानमंत्री कार्यालय से फोन आया था और अगले कुछ दिनों में उन्‍हें मोदी से मिलने के लिए बुलाया गया है।

राणा एक ऐसे लोकप्रिय शायर हैं जिन्‍होंने सियासी मौकापरस्‍ती की फसल काटने में अकसर कोई चूक नहीं की है। उनके जैसी कमज़ोर कड़ी का इस्‍तेमाल कर के सरकार लेखकों की सामूहिक कार्रवाई को ध्‍वस्‍त कर सकती है।

ऐसा न होने पाए, इसका इकलौता तरीका यही है कि जनता का समर्थन हासिल किया जाए। लेखक और कवि आज यदि जनता के बीच नहीं गया, तो टीवी की बहसें और उनमें नुमाया लिजलिजे चेहरे एजेंडे पर कब्‍ज़ा जमा लेंगे।

जनता का समर्थन हासिल करने, अपना सिर ऊंचा उठाए रखने, इस लड़ाई को आगे ले जाने और पुरस्‍कार वापसी की कार्रवाई को सार्थकता प्रदान करने के लिए हरकत में आने का सही वक्‍त यही है। मेरे लेखको और कवियो, बात बस इतनी सी है कि अभी नहीं तो कभी नहीं। किसका इंतज़ार है और कब तक? जनता को तुम्‍हारी ज़रूरत है!

(मूल अंग्रेजी : कैच न्‍यूज़)










--
Pl see my blogs;


Feel free -- and I request you -- to forward this newsletter to your lists and friends!

No comments:

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...