THE HIMALAYAN TALK: INDIAN GOVERNMENT FOOD SECURITY PROGRAM RISKIER

http://youtu.be/NrcmNEjaN8c The government of India has announced food security program ahead of elections in 2014. We discussed the issue with Palash Biswas in Kolkata today. http://youtu.be/NrcmNEjaN8c Ahead of Elections, India's Cabinet Approves Food Security Program ______________________________________________________ By JIM YARDLEY http://india.blogs.nytimes.com/2013/07/04/indias-cabinet-passes-food-security-law/

THE HIMALAYAN TALK: PALASH BISWAS CRITICAL OF BAMCEF LEADERSHIP

[Palash Biswas, one of the BAMCEF leaders and editors for Indian Express spoke to us from Kolkata today and criticized BAMCEF leadership in New Delhi, which according to him, is messing up with Nepalese indigenous peoples also. He also flayed MP Jay Narayan Prasad Nishad, who recently offered a Puja in his New Delhi home for Narendra Modi's victory in 2014.]

THE HIMALAYAN DISASTER: TRANSNATIONAL DISASTER MANAGEMENT MECHANISM A MUST

We talked with Palash Biswas, an editor for Indian Express in Kolkata today also. He urged that there must a transnational disaster management mechanism to avert such scale disaster in the Himalayas. http://youtu.be/7IzWUpRECJM

THE HIMALAYAN TALK: PALASH BISWAS LASHES OUT KATHMANDU INT'L 'MULVASI' CONFERENCE

अहिले भर्खर कोलकता भारतमा हामीले पलाश विश्वाससंग काठमाडौँमा आज भै रहेको अन्तर्राष्ट्रिय मूलवासी सम्मेलनको बारेमा कुराकानी गर्यौ । उहाले भन्नु भयो सो सम्मेलन 'नेपालको आदिवासी जनजातिहरुको आन्दोलनलाई कम्जोर बनाउने षडयन्त्र हो।' http://youtu.be/j8GXlmSBbbk

THE HIMALAYAN TALK: PALASH BISWAS LASHES OUT KATHMANDU INT'L 'MULVASI' CONFERENCE

अहिले भर्खर कोलकता भारतमा हामीले पलाश विश्वाससंग काठमाडौँमा आज भै रहेको अन्तर्राष्ट्रिय मूलवासी सम्मेलनको बारेमा कुराकानी गर्यौ । उहाले भन्नु भयो सो सम्मेलन 'नेपालको आदिवासी जनजातिहरुको आन्दोलनलाई कम्जोर बनाउने षडयन्त्र हो।' http://youtu.be/j8GXlmSBbbk

THE HIMALAYAN TALK: PALASH BISWAS BLASTS INDIANS THAT CLAIM BUDDHA WAS BORN IN INDIA

THE HIMALAYAN VOICE: PALASH BISWAS DISCUSSES RAM MANDIR

Published on 10 Apr 2013 Palash Biswas spoke to us from Kolkota and shared his views on Visho Hindu Parashid's programme from tomorrow ( April 11, 2013) to build Ram Mandir in disputed Ayodhya. http://www.youtube.com/watch?v=77cZuBunAGk

THE HIMALAYAN TALK: PALSH BISWAS FLAYS SOUTH ASIAN GOVERNM

Palash Biswas, lashed out those 1% people in the government in New Delhi for failure of delivery and creating hosts of problems everywhere in South Asia. http://youtu.be/lD2_V7CB2Is

Palash Biswas on BAMCEF UNIFICATION!

THE HIMALAYAN TALK: PALASH BISWAS ON NEPALI SENTIMENT, GORKHALAND, KUMAON AND GARHWAL ETC.and BAMCEF UNIFICATION! Published on Mar 19, 2013 The Himalayan Voice Cambridge, Massachusetts United States of America

BAMCEF UNIFICATION CONFERENCE 7

Published on 10 Mar 2013 ALL INDIA BAMCEF UNIFICATION CONFERENCE HELD AT Dr.B. R. AMBEDKAR BHAVAN,DADAR,MUMBAI ON 2ND AND 3RD MARCH 2013. Mr.PALASH BISWAS (JOURNALIST -KOLKATA) DELIVERING HER SPEECH. http://www.youtube.com/watch?v=oLL-n6MrcoM http://youtu.be/oLL-n6MrcoM

Imminent Massive earthquake in the Himalayas

THE HIMALAYAN TALK: PALASH BISWAS CRITICIZES GOVT FOR WORLD`S BIGGEST BLACK OUT

THE HIMALAYAN TALK: PALASH BISWAS CRITICIZES GOVT FOR WORLD`S BIGGEST BLACK OUT

THE HIMALAYAN TALK: PALASH BISWAS TALKS AGAINST CASTEIST HEGEMONY IN SOUTH ASIA

Palash Biswas on Citizenship Amendment Act

Mr. PALASH BISWAS DELIVERING SPEECH AT BAMCEF PROGRAM AT NAGPUR ON 17 & 18 SEPTEMBER 2003 Sub:- CITIZENSHIP AMENDMENT ACT 2003 http://youtu.be/zGDfsLzxTXo

Welcome

Website counter
website hit counter
website hit counters

Tweet Please

Palash Biswas On Unique Identity No1.mpg

Monday, March 27, 2017

হে মোর চিত্ত, Prey for Humanity!More Mayhem to follow if we fail to activate the Love apps ! Palash Biswas


হে মোর চিত্ত, Prey for Humanity!More Mayhem to follow if we fail to activate the Love apps !
Palash Biswas
video:https://www.facebook.com/palashbiswaskl/videos/1661747550520314/?l=2641029038663938894

73 ethno-linguistic groups establish that ancient India was one in which all people intermingled freely!

India is inflicted with Mandal Kamandal Civil war just because of an artificial system Manusmriti imposed upon generations of people that encouraged inequality and supressed them for 2,000 years.

In ancient India,we Indians were ONE Blood,latest genetic study proves and it says that Manusmriti launched after the demise of Buddhist India killed that unity and integrity inherent,the merger of human streams and now HinduTaliban sustains the Manusmriti!

We,the Indian people share the most common genetics of love,tolerance and pluralism!Despite the inherent racist apartheid of Caste!

In India,the genetics of humanity calls for tolerance, pluralism, universal brotherhood, unity, integrity and Buddhist ideology of Panchsheel to resist the caste war ahead,the Mandal Kamandal War overwhelming and the intensive religious polarization resultant to sustain dynasty rule as dynasty rule is the genetics of hegemony that kills the democracy and secularism to invoke the incarnation of suicidal fascism!

Latest genetic studies prove that caste system kills the inherent unity of the universal brotherhood and the killings further intensified with religious polarization supported by the economics of Free market with free flow of foreign capital and foreign interests.It makes the genetics of violence and hate so dominant that the world is set on fire.

As the situation being alarming,we have to bear the burns of terror strike anywhere  any timeI Paris is not the last destination of terrorism,I am afraid.Islamic State owns the responsibility of Paris Tragedy at the moment as media claims and French President virtually announced yet another global war against terror endorsed by Indian political leadership.

महत्वपूर्ण खबरें और आलेख जो भी आज साम्राज्यवाद के खिलाफ लड़ रहा है वह भगत सिंह है

अवैध स्लाटर हाउस मामला : योगी के इस विकास की नींव तो अखिलेश रख गए थे

http://www.hastakshep.com/opinion-debate-hindi/invalid-slater-house-case-yogi-adityanath-foundation-of-development-akhilesh--13653

 

गोवा में बीफ बिकता है और उप्र में बीफ बंदी,सरकार दोनों जगह भाजपा की ही है

http://www.hastakshep.com/opinion-debate-hindi/nature-of-country-secularism-fanatic-hinduism-india-hindutva-13647

 

धर्मनिरपेक्षता की बजाय कट्टर हिंदूवादी स्वभाव की ओर बढ़ रहा देश का स्वभाव

http://www.hastakshep.com/opinion-debate-hindi/nature-of-country-secularism-fanatic-hinduism-india-hindutva-13647

 

बसपा की जाति की राजनीति ने हिंदुत्व को कमज़ोर करने की बजाये उसे मज़बूत ही किया !

http://www.hastakshep.com/opinion-debate-hindi/margdarshk-mandalor-mookdarshak-mandal-13638

 

मार्गदर्शक मंडल को 'मूकदर्शक मंडलबना रखा है मोदी-शाह की जोड़ी ने !

http://www.hastakshep.com/opinion-debate-hindi/margdarshk-mandalor-mookdarshak-mandal-13638

 

आंकड़ें बताते हैंदेश में मोदी लहर नहीं, 2019में योगी मोदी की लाचारी हैं

http://www.hastakshep.com/opinion-debate-hindi/anti-power-wave-elections-of-2019-modi-wave-13633

 

जो भी आज साम्राज्यवाद के खिलाफ लड़ रहा है वह भगत सिंह है

http://www.hastakshep.com/news-in-hindi/bhagat-singh-remembered-in-canada-13654

 

कोर्ट में 'आपनेताओं को मिली जान से मारने की धमकी, AAP ने लिखा गृह मंत्री को पत्र

http://www.hastakshep.com/news-in-hindi/press-association-elections-jaishankar-gupta-13650

 

लिवर कैंसर का अब आसान इलाज

http://www.hastakshep.com/news-in-hindi/easy-treatment-of-liver-cancer-13643

 

हस्तक्षेप के संचालन में छोटी राशि से सहयोग दें


महत्वपूर्ण खबरें और आलेख गोवा में बीफ बिकता है और उप्र में बीफ बंदी, सरकार दोनों जगह भाजपा की ही है

महत्वपूर्ण खबरें और आलेख गोवा में बीफ बिकता है और उप्र में बीफ बंदी, सरकार दोनों जगह भाजपा की ही है

गोवा में बीफ बिकता है और उप्र में बीफ बंदीसरकार दोनों जगह भाजपा की ही है

छोटे स्लाटर हाउस बंद होंगेलेकिन बीफ की बड़ी कंपनियां अपना काम करती रहेंगी। यानी छोटे कारोबारियों की छुट्टी और कारपोरेट मुनाफा कमाएंगे।जब से भाजपा की केंद्र में सरकार बनी है बीफ निर्यात डेढ़ गुना हो गया

http://www.hastakshep.com/opinion-debate-hindi/slaughter-house-beef-bjp-yogi-sarkar-anti-romeo-squad-13652

 

 

स्लाटर हाउस बंद कराने के योगी के अभियान को धार्मिक चश्मे से देखने के बजाए आर्थिक व राजनीतिक निगाह से देखने की ज़रूरत है।...

जब से भाजपा की केंद्र में सरकार बनी है बीफ निर्यात डेढ़ गुना हो गया है और अब यह और बढ़ने वाला है। इससे साफ है कि असल मामला वध का नहीं है

http://www.hastakshep.com/opinion-debate-hindi/slaughter-house-beef-bjp-yogi-sarkar-anti-romeo-squad-13652

 

 

 

अवैध स्लाटर हाउस मामला : योगी के इस विकास की नींव तो अखिलेश रख गए थे

समझ में यह नहीं आ रहा है कि दोनों में से किसने जानवरों से ज़्यादा दोस्ती निभाई। क्रेडिट योगी को गया। बेचारे अखिलेश ǃǃǃ जिस विकास की नींव अखिलेश ने रखी थी उसका चैम्पियन कोई और बन गया।...

http://www.hastakshep.com/opinion-debate-hindi/invalid-slater-house-case-yogi-adityanath-foundation-of-development-akhilesh--13653

 

 

 

आज नारायण दत्त तिवारी तथा एसएम कृष्णा जैसे वरिष्ठतम कांग्रेसी नेता भाजपा में शरण पाते देखे जा रहे हैं।

हेमवती नंदन बहुगुणा जैसे नेता जिन्हें कभी मुस्लिम समाज के लोग अपने नेता के रूप में देखा करते थेउनके परिवार के सदस्य भाजपा में शामिल हो चुके हैं और उनकी बेटी रीता बहुगुणा उत्तर प्रदेश में मंत्री बनाई जा चुकी हैं।

http://www.hastakshep.com/opinion-debate-hindi/nature-of-country-secularism-fanatic-hinduism-india-hindutva-13647

 

 

मार्गदर्शक मंडल के जो नेता चल-फिरहिल-डुल और बोल सकते थेउन्हें 2014 के बाद राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठकों में कितनी बार मार्गदर्शन प्रदान करने का अवसर दिया गयाइस प्रश्न के आलोक में पड़ताल की जाए तो पार्टी की अंदरूनी साजिशें सामने आ जाएंगी।

बंगलुरूगोवाऔर दिल्ली तीनों राष्ट्रीय कार्यकारिणी बैठकों की तस्वीर लगभग एक जैसी हैजहां न तो लालकृष्ण आडवानी का नाम लेने वाला कोई थान मुरली मनोहर जोशी का।

http://www.hastakshep.com/opinion-debate-hindi/margdarshk-mandalor-mookdarshak-mandal-13638 

 

 

 

देश में मोदी लहर नहीं है। उल्टा 2019 के चुनाव में सत्ता विरोधी लहर की प्रवृत्ति का डर है। इसलिए देश में लोकसभा में सबसे ज्यादा सांसद भेजने वाले राज्य उ. प्र. में मोदी-शाह कोई गलती नहीं करना चाहते ...

http://www.hastakshep.com/opinion-debate-hindi/anti-power-wave-elections-of-2019-modi-wave-13633

 

 

मुरादाबाद शहर का आवास विकास की कालोनी में हमारे सहकर्मी तबरेज अपना अनुभव बताते हैं कि वह रामशरण शर्मा से हिन्दू- मुस्लिम भाईचारे पर सवाल करते हैं तो जबाब मिलता है कैसा भाई?मुसलमान कब भाई बन गया?

http://www.hastakshep.com/opinion-debate-hindi/muslims-path-of-development-cremation-ground-uttar-pradesh-elections-13616

 

 

बसपा की जाति की राजनीति ने हिंदुत्व को कमज़ोर करने की बजाये उसे मज़बूत ही किया !

बसपा की जाति की राजनीति अवसरवादिता,सिद्धान्हीनतादलित हितों की उपेक्षा और भ्रष्टाचार का शिकार हो कर विफल हो चुकी है. अतः इस परिपेक्ष्य में दलितों को अब एक नए रैडिकल राजनीतिक विकल्प की आवश्यकता है...

http://www.hastakshep.com/opinion-debate-hindi/failure-of-dalit-politics-and-options-13639

 

कोर्ट में 'आपनेताओं को मिली जान से मारने की धमकी, AAP ने लिखा गृह मंत्री को पत्र

अरुण जेटली के पक्ष के वकीलों के हुजूम के साथ आए वकील ने कोर्ट में ही दी 'आपनेताओं को जान से मारने की धमकी - आरोप...

http://www.hastakshep.com/news-in-hindi/aap-arun-jaitley--13651


हस्तक्षेप के संचालन में छोटी राशि से सहयोग दें


Saturday, March 25, 2017

#Embroidered Quilt#, a focus on the poet Jasimuddin and his works to understand the Chemistry and Physics of Communal Politics which inflicts the Indian pshyche countrywide and specifically in Bengal where it originally roots in. Palash Biswas

#Embroidered Quilt#, a focus on the poet Jasimuddin and his works to understand the Chemistry and Physics of Communal Politics which inflicts the Indian pshyche countrywide and specifically in Bengal where it originally roots in 
Palash Biswas
#Embroidered Quilt#, a focus on the poet Jasimuddin
The video is not technically good and I have not the expertise to edit videos.There might be some mistakes while speaking just because of tongue slip.But if you have the courage to go through the video,it might help you to understand Bengal and partition scenario.partition scenario.Jasimuddin represented Indian peasantry and rural India more than others.

Relgious polarization in Bengal seems to be reintroducing the politics of divide India yet again.I want to discuss on Jasimuddin`s works to understand the social fabrics in Rural India which might be quite relevant to deal with this calamity.

Because I used the web camera of my PC to include the visual clippings,it might not be as good as as a afar as the visual and sound qualities are concerned.

Because the history of the Indian holocaust is highly biased and it excommunicated the victims,the peasantry itself, a focus on Jasimuddin wroks would be helpful to understand the chemistry and physics of communal politics which envelops Indian psyche,society and culture.

Thus,I dare to share this video.

Jasimuddin (30 October 1903 – 14 March 1976; born Jasim Uddin)[1] was aBengali poet, songwriter, prose writer, folklore collector and radio personality. He is commonly known in Bangladesh as Polli Kobi (The Rural Poet), for his faithful rendition of Bengali folklore in his works.

Jasimuddin is noted for his depiction of rural life and nature from the viewpoint of rural people. This had earned him fame as Polli Kobi (the rural poet). The structure and content of his poetry bears a strong flavor of Bengal folklore. His Nokshi Kanthar Maath (Field of the Embroidered Quilt) is considered a masterpiece and has been translated into many different languages.

Jasimuddin also composed numerous songs in the tradition of rural Bengal. His collaboration[4] with Abbas Uddin, the most popular folk singer of Bengal, produced some of the gems of Bengali folk music, especially of Bhatiali genre. Jasimuddin also wrote some modern songs for the radio. He was influenced by his neighbor, poet Golam Mostofa, to write Islamic songs too. Later, during the Liberation War of Bangladesh, he wrote some patriotic songs.

दंगा फसाद पर 
भारतीय किसानों और देहात और जनपदों के प्रतिनिधि जसीमुद्दीन की दो बेहद खास कृतियां हैं।नक्शी कांथार माठ और सोजन बादियार घाट।

ईस्ट इंडिया कंपनी की अवैध संतानों ने कैसे इस भारत तीर्थ को बंटवारे का शिकार बना दिया और कैसे आज भी बंटवारे का सिलसिला जारी है,बंगाल के गांवों की समूची खुशबू और तमाम झांकियों के साथ इस देहाती कवि,पल्ली कवि ने अपनी इन कृतियों में अपने कलेजे के खून के साथ पेश की है।

दोनों कृतियां क्लासिक हैं और दुनियाभर में मशहूर हैं और हम फिलहाल नहीं जानते कि क्या जसीमुद्दीन की आत्मा से खंडित भारत की जनता का कोई परिचयहै या नहीं क्योंकि बंगाल में स्वतंत्रता सेनानियों को जैसे भूल गये लोग,इस मुसलमान कवि को बी लोग भूल जाते अगर नांदीकार जैसे थिएटर ग्रुप और कल्याणी जैसे कस्बों के रंगकर्मी सोजन बादियार घाट और नक्शी कांथार माठ का मंचन नहीं करते।

वैसे अब्बासउद्दीन और जसीमुद्दीन का कृतज्ञ भारतीय सिनेमा और संगीत को भी होना चाहिए।इन दोनों ने मिलकर ही आल इंडिया रेडियो के लिए मैमन सिंह गीतिमाला,वहीं मैमन सिंह,जहां से तसलिमा नसरीन हैं,भाटियाली और ग्राम बांग्ला का संगीत गीत तमामो खोज निकाले।
-- 
Pl see my blogs;


Feel free -- and I request you -- to forward this newsletter to your lists and friends!

Friday, March 24, 2017

Yshodhara`s comment:শ্রীজাত কন্ডোম শব্দটি ব্যবহার করে কবিতা লিখেছেন বলে আপামর বাঙালির প্রাণে ব্যথা লেগেছে। কিন্তু তার চেয়ে অন্তত একশো গুণ কুরুচিকর একটি পোস্ট and the spine lost Palash Biswas

Yshodhara`s comment:শ্রীজাত কন্ডোম শব্দটি ব্যবহার করে কবিতা লিখেছেন বলে আপামর বাঙালির প্রাণে ব্যথা লেগেছে। কিন্তু তার চেয়ে অন্তত একশো গুণ কুরুচিকর একটি পোস্ট and the spine lost
Palash Biswas
I am disappointed to see Bengali Intelligentsia quite detached from the day to day turmoil,degeneration of progressive,liberal and democrat identity of Bengali society which had been enriched By Rabidra Nath ,icons of Renaissance in Bengal and freedom fighter which made Bengal leading in every sphere of life.Despite being the victim of partition of India and the aftermath,continuous refugee influx and continuous minority persecution in Bangladesh and erstwhile East Pakistan Bengali heart and mind remain as much as tolerant as Buddhism or Tagore` s Geetanjalli might be.
Suddenly Bengal has converted into another cow belt or Gujarat.We have been familiar of the controversies related to writings in the past but never witnessed religious intolerance to overlap the heart and Mind of Bengalies in general and specifically those claiming to be flag bearers of Bengali culture.
It is stunning that Srijato seem to be excommunicated for his poem which did not mention any individual,organization or religion except the phrase condom on trisul.It might be subjected to criticism whether it was suitable or not,but branding it anti Hindu and most of the Bengali civil society siding with Ram Tsunami creating elements,is rather shocking for an outsider like me.
Prominent Bengali poet, andcreative activist and face of modern Bengali poetry,Yshodhra Roy Chowdhury has written about this scenario most correctly.Please consider her point of view as she is quite apolitical.

Yashodhara Ray Chaudhuri wrote:

প্রথমে রুচিতে বাধছিল। তারপরে ভেবে দেখলাম লিখিত ভাবে প্রতিক্রিয়া জানাবার মূল্য আছে।
শ্রীজাত র নামে লিখে পোস্ট করেছেন জনৈক সব্যসাচী ভট্টাচার্য। তার লেখা পড়ে বাঙালি চুপ।
না, কবিতাটা কত খারাপ কবিতা, কত ভুলে ভরা এসব বলে খিল্লি করে হেসে উড়িয়ে দিচ্ছি না। কারণ, আমার কাছে সব্যসাচীবাবু আর সেই সব গুরু-স্বামী-যোগী-উলেমা আলাদা নন, এক, একই ধর্ষণ সংস্কৃতির ধারক বাহক এঁরা, ধর্মীয় ভাবাবেগের নামে যাঁরা মেয়েদের ধর্ষণ করাকে একটা মাহাত্ম্য দেন। এঁদের চিনে রাখুন। এঁরা হিন্দু বা মুসলিম বা অন্য যে কোন ধর্মের হলেও, একই সংস্কৃতির ধারক। নারীবিরোধী, কুৎসিত এই সংস্কৃতি আমরা চাই না।
তাই, এক মহিলা হিসেবে, নারীবাদী হিসেবে ধিক্কার জানালাম সব্যসাচীকে এবং সেই মাতব্বরদেরও । যাঁরা কোন পুরুষকে অপমান করতে অবধারিতভাবে তার মা বোন বউ-এর সম্মান নষ্ট করেন, কোন জাতি-গোষ্ঠী-ধর্মীয়কে অপমান করেতে তার মা বোন বউকে ধর্ষণ করেন, পেটে বর্শা-ত্রিশূল খুঁচিয়ে ভ্রূণ টেনে আনেন, নিজের ধর্মের মেয়েদের অনার কিলিং এ বাধ্য করান। কারুকে গালাগালি দিতে তার মাকে তুলে আনার যুগবাহিত পুরুষতান্ত্রিক প্রবণতা এখন ফুলে ফলে বৃদ্ধি পাচ্ছে এঁদের জন্য। কন্ডোম শব্দে যার ভাবাবেগে আঘাত লেগে থাকে, তার ই নিজের রুচিটি, এইভাবে কারওর মা বোন বউকে জঘন্য ভাষায় বিবৃত করার প্রবণতায় বুঝতে পারি, এরা বিকৃত মানসিকতার, এবং এদের বিরুদ্ধে লড়াই এই সবে শুরু হল।
( ডিসক্লেমার : এই পোস্ট শ্রীজাত সংক্রান্ত নয়। কারুর ভাবাবেগে আঘাত লাগলে দুঃখিত)
সব্যসাচী ভট্টাচার্য
কন্ডোম কবি ,
কন্ডোম নিয়ে কবিতা লেখো, এ কেমন কবি,
স্ত্রী সাথে করেছো নিশ্চয় কোনোদিন নীলছবি ।
কবি তোমার টাকে কন্ডোম, গোপনাঙ্গে হাত
বনমানুষের নাম দিয়েছে আবার শ্রীজাত ।
বেজাত নামটাই শ্রেয় ছিল, জারজ বলে কথা
কবি সেজে দিয়েছো তাই ধর্মানুভূতিতে ব্যাথা ।
ত্রিশূল নিয়ে লিখছো তাই অক্ষত আছে হাত,
ইসলাম নিয়ে লিখলে বুঝতে পারতে শ্রীজাত ।
তুমি কোন চুলের কবি, ধর্মকে করো অপমান,
কন্ডোম ছাড়া কি আর কিছুর নিতে পারোনা নাম ।
জারজ বলেই এসব বলো, ব্রা প্যান্টিতে আন্দোলন,
শুনেছি নাকি পাকিস্তান গিয়েছে তোমার আপন বোন ।
তোমার বাবা নাকি ধ্বজভঙ্গ, ফলাতে পারেনি তোকে,
তোর মা নাকি ছুটে গেছিল লাহোরের কোন ঝোপে ।
তোর মাথাতে কন্ডোম পরাবো, কুকুর দিয়ে করাবো ধর্ষন,
বাকস্বাধীনতার কবিতা কাকে বলে এবার দেখুন বুদ্ধিজীবিগন

Tuesday, March 21, 2017

On Shreejat,the poet and bengali intelligentsia in general.To whomsever it might concern accross borders! Palash Biswas

On Shreejat,the poet and bengali intelligentsia in general.To whomsever it might concern accross borders!
Palash Biswas
Atul Dhusia Innocent · 0:00 इतनी प्रॉब्लम है देश में तो कही और शिफ्ट हो जाइये,,यहाँ तो इतना बोल भी रहे है आप दूसरे देशों में तो ये अधिकार भीं नहीं मिलेगा आपको।।।।।जो भड़काने का आरोप आप संघ पर लगा रहे है वो काम तो आप भी कर रहे है फिर वो गलत और आप सही कैसे हो सकते है।।।आप की विचारधारा को कितने लोग सपोर्ट करते है आपके लेख के like और comment देख कर पता चलता है की मुट्ठी भर लोग भी आपसे सहमत नहीं है।।। सर के बल खड़े होकर दुनिया देखोगे तो दुनिया उलटी ही नज़र आएगी ।।।।।
Get out of India!We always have been advised!Only those supporting the governance of racist fascist apartheid have toe freedom to write,speak and perform.It is full fledged 1984.I am not surprised.We have to face the fatwa every time we address the basic burning issues against the corporate free market agenda of ethnic cleansing and the infinite persecution of the masses.It is alarming that Bengal is captured by these BORGI elements and Bengali poets have the same treatment as poets and other writers ,artists are getting the same treatment in Bengal.I have been warning in text as well as video talk about the imminent cow dung tsunami in Bengal,eastern,North East and South India as cow belt has been extended and we remained sleepning.Even today I wrote on Kalika Prasad and latest Ram Mandir scenario.Last day I posted my analysis of Komal gandhar emphasising the urgency of IPTA like cultural movent countrywide to defend the India which is made of different streams of humanity embodied in it,as Rabindra Nath used to say.All bengali Icons speaking freedom,pluralism,diversity and love have fortunately died.Had they been alive,these Borgi brotherhood would not spare any one of them.We have lost the clan and it might prove to be an exception as Bengali intelligentsia specifically those engaged in creativity have no spine whatsoever and their soft skin would not feel the fire around which has set humanity and civilization on fire.

राममंदिर को लेकर यूपी की सत्ता के जरिये फिर भारी हंगामा खड़ा करना मकसद है। कांशीराम उद्यान में मनुस्मृति सरकार की शपथ का इंतजाम बाबासाहेब को डिजिटलकैशलैस इंडिया में भीम ऐप बना देने की तकनीकी दक्षता है,जो बहुजन राजनीति के कफन पर आखिरी कील है। पलाश विश्वास

राममंदिर को लेकर यूपी की सत्ता के जरिये फिर भारी हंगामा खड़ा करना मकसद है। 
कांशीराम उद्यान में मनुस्मृति सरकार की शपथ का इंतजाम बाबासाहेब को डिजिटल कैशलैस इंडिया में भीम ऐप बना देने की तकनीकी दक्षता है,जो बहुजन राजनीति के कफन पर आखिरी कील है
 पलाश विश्वास
वीडियो राममंदिरः
दाभोलकर,पानसारे,कलबुर्गी,रोहित वेमुला जैसे लोगों पर हमले अब लगातार होने हैं।
चौथी राम यादव जैसे निरीह व्यक्ति को जब बख्शा नहीं गया है,यूपी में तख्ता पलट होते ही जैसे देशभर में लोकतंत्र और धर्मनिरपेक्षता के पक्ष में खड़े लोगों पर एकतरफा हमले हो रहे हैं,उससे साफ जाहिर है कि नोटबंदी के बाद जुबांबंदी के लिए अरुण जेटली की बहस शुरु करने की ख्वाहिश अधूरी रहेगी,इसे अंजाम देने के लिए बजरंग वाहिनी मैदान में उतर गयी है।
रामनवमी के चंदे को लेकर हावड़ा में संघर्ष ताजा खबर है।जिसमें तीन भाजपाई गिरफ्तार हो गये हैं।
इससे पहले हावड़ा के धुलागढ़ में ही दंगा हो गया है।बाकी हिंदुत्व एजंडे की राजनीति वसंत बहार है और बंगाल आहिस्ते आहिस्ते नहीं, बेहद तेजी से यूपी,गुजरात और असम में तब्दील होने लगा है और प्रगतिशील  वामपंथी धर्मनिरपेक्ष बंगालियों को खबर भी नहीं है कि गोमूत्र पान महोत्सव शुरु हो गया है और वे भी गोबर संस्कृति में शामिल हैं। बहरहाल बंगाल के हर जिले में सांप्रदायिक ध्रूवीकरण यूपी के नक्शेकदम पर बेहद तेज हो गया है।
शारदा और नारदा फर्जीवाड़े में लोकसभा चुनावं से पहले खामोशी और यूपी जीतनेके बाद बेहद तेजी,नारदा की जांच सीबीआई से कराने के लिए हाईकोर्ट का आदेश और इस आदेश के खिलाफ ममता बनर्जी की अपील सुप्रीम कोर्ट में खारिज होने के बाद बहुत जल्दी बंगाल में भारी उथल पुथल होने को है।यह बंगाल औरत्रिपुरा जीतने का मास्टर प्लान है।
मणिपुर और असम जैसे राज्यों में जहां मणिपुरी और असमिया राष्ट्रवाद धार्मिक पहचान से बड़ी है,बंगाल और त्रिपुरा में बंगाली राष्ट्रीयता पर भगवा पेशवाई चढ़ाई,घेराबंदी की सारी तैयारियां हो चुकी हैं।
बिखरे हुए मोकापरस्त विपक्ष को यूपी में कड़ी शिकस्त देने के बाद महंत आदित्यनाथ को मुख्यमंत्री और केशव आर्य व दिनेश शर्मा को उपमुख्यमंत्री बनाने से संग परिवार की फिर राममंदिर एजंडे में वापसी हो गयी है।
योगी आदित्यनाथ सुनते हैं कि साहित्य और कविता पढ़ते हैं और उन्हें ये चीजें याद भी हैं।इससे कोई रियायत नहीं मिलने वाली है क्योंकि वे हिंदुत्व एजंडा नस्ली दबंगई के साथ लागू करने के लिए और देश भर में रामलहर पैदा करने के लिए अपने प्रवचन दक्षता की वजह से मुख्यमंत्री बनाये गये हैं।अब राम मंदिर बने या नहीं,राममंदिर बनाते हुए दीखने के उपक्रम में यूपी और बाकी देश में भारी बजरंगी तांडव का अंदेशा है।
बाबरी विध्वंस का हादसा भी भाजपाई कल्याण सिंह मंत्रिमंडल का महानराजकाज रहा है उस वक्त भी अदालत से इस मसले का हल अदालत से बाहर निकालने की बात कही जा रही थी।
कांशीराम उद्यान में मनुस्मृति सरकार की शपथ का इंतजाम बाबासाहेब को डिजिटलकैशलैस इंडिया में भीम ऐप बना देने की तकनीकी दक्षता है,जो बहुजन राजनीति के कफन पर आखिरी कील है।जनादेश आने से पहले इसकी जो तैयारियां प्रशासन अखिलेश अवसान से पहले कर रहा था,उसे बहुजनों ने बहनजी की वापसी की आहट समझ ली थी जो कि हाथी पर सवार होकर देवी मनुस्मृति की यूपी और बाकी भारत दखल की तैयारी थी।
इन दिनों आदरणीय शम्सुल इस्लाम जी की दो किताबों का अनुवाद  हिंदी और बांग्ला में कर रहा हूं और आगे और काम है।इसलिए लगातार लिखना थोड़ा मुश्किल हो गया है।
हम आनंद तेलतुंबड़े से अपनी बातचीत का हवाला देते हुए अरसे से निरंकुश सत्ता के खिलाफ सृजनशील जनपक्षधर सक्रियता और आम जनता की व्यापक देशव्यापी गोलबंदी की बातें की है।
बिजन भट्टाचार्य की जन्मशताब्दी पर हमने नये सिरे से इप्टा को सक्रिय करने पर जोर दिया था।
इसी सिलसिले में कल हमने भारत विभाजन और इप्टा के बिखराव पर केंद्रित ऋत्विक घटक की फिल्म कोमल गांधार पर अपना वीडियो विस्लेषण फेसबुक पर जारी किया,जिसे बड़ी संख्या में लोग देख भी रहे हैं।
हम नहीं जानते कि देशभर के रंगकर्मी और खासतौर पर अब भी इप्टा आंदोलन के प्रति प्रतिबद्ध लोगों ने इस वीडियो को देखा है या नहीं या हमारे वाम पंथी मित्र आत्ममंथन करके सत्ता के लिए मौकापरस्ती छोड़कर फिर मेहनतकश आम जनता के हक हकूक के लिए जमीन पर विचारधारा की लड़ाई शुरु करने के लिए तैयार हैं या नहीं।
इस वीडियो को जारी करने काम मकसद इप्टा और रंगकर्म की प्रासंगिकता पर नये सिरे से बहस करनी की अपील जारी करना है।
असम से कमसकम  एक संकेत बहुत अच्छा है कि संघ परिवार की सुनियोजित साजिश के बावजूद वहां फिलहाल धार्मिक या असमिया गैरअसमिया ध्रूवीकरण के तहत हिंसा नहीं भड़की और अासू और अगप के आंदोलन में बंगाली और मुसलमान शामिल हैं,जिससे समुदायों के बीच टकराव फिलहाल टल गया है।
सबसे अच्छी बात तो यह है कि  आसू और अगप समेत पूरा असम इसे बहुत अच्छी तरह समझ गया है कि असम और पूर्वोत्तर में धार्मिक ध्रूवीकरण की राजनीति करके संघ परिवार हिंसा और घृणा की मजहबी सियासत से उनकी संस्कृति पर हमला कर रहा है और अब धेमाजी शिलापाथर की दुर्भाग्यपूर्ण घटनाओं के सिलसिले में वे भाजपा और संघपरिवार के खिलाफ आंदोलन शुरु करके हिमंत विश्वशर्मा के निलंबन की मांग लेकर आंदोलन कर रहे हैं।
अरुणाचल से लेकर मणिपुर तक इस मजहबी सियासत के खिलाफ आंदोलन की गूंज  हो रही है।लेकिन बंगाल और त्रिपुरा में इसके खिलाफ कोई राजनीतिक गोलबंदी नहीं है।
आज हमने हाल में सड़क दुर्घटना में मारे गये युवा गायक संगीतकार कालिका प्रसाद भट्टाचार्य का आखिरी गीत का वीडियो अपनी अंग्रेजी में लिखी टिप्पणी के साथ जारी की है।
लोकसंगीत के मामले में कालिका की शैली एकदम अलहदा थी तो रवींद्र संगीत में भी उनका लोक मुखर था।
खास बात तो यह है कि वे एक साथ बंगाल और असम की लोकपरंपराओं और विरासत के मुताबिक गा रहे थे,रच रहे थे।कालिका प्रसाद असम के शिलचर से हैं और बांगाल में उनका बैंड दोहार अत्यंत लोकप्रिय है।उनके निधन पर असम और बंगाल एक साथ शोकमग्न है।
हमें हर सूबे में अमन चैन के लिए कालिका प्रसाद जैसे कलाकारों की बेहद सख्त जरुरत है।
कला और संगीत से मनुष्यता और सभ्यता के हित सधते हैं।
प्रेम,शांति और सौहार्द का माहौल बनता है।
भारतीय सिनेमा की यही परंपरा रही है।भारतीय संगीत और कला ने देश को हर मायने में जोड़ने का काम किया है तो रंगकर्म ने भी और खास तौर पर इप्टा ने यह काम किया है।
मजहबी सियासत और अलगाववाद,नये सिरे से राममंदिर को  लेकर हिंदुत्व की सुनामी के मुकाबले देश को जोड़ने की चुनौती सबसे बड़ी है।
सुप्रीम कोर्ट ने फिर कहा है कि राममंदिर का मसला अदालत से बाहर सुलझा लिया जाये तो केंद्रीय मंत्री महेश शर्मा ने कह दिया है कि इस मामले में केंद्र सरकार मध्यस्थता करने को तैयार है।
जाहिर है कि अब इस देश में सबसे बड़ा मुद्दा राममंदिर है और राम सुनामी में बंगाल जैसा प्रगतिशील राज्य भी संघ परिवार के शिकंजे में है।
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...